माँ आसूं भर रह जाएगी

tears-in-eyes

माँ, तुझे छोड़ मैं शहर चला जाता हूँ, बार बार, न जाने तू कैसे रहती होगी, बाबूजी हैं, भाई है, पर मैं तो नहीं ।

माँ, तेरी याद में –

कल फिर वही कहानी होगी
सुबह नई, पर हवा पुरानी होगी
चिड़िया दाना ले के लाएगी
अपने बच्चों को चुगाएगी
बच्चे एक दिन उड़ जाएंगे
माँ आसूं भर रह जाएगी


 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share