बहादुर लड़की

हाल ही में केरल की एक बहादुर लड़की ने अपनी शादी के दौरान दूल्हे और उसके परिवार की तरफ से दहेज की मांग करने पर सोशल मीडिया को अपना हथियार बनाते हुए उन्हें करारा जवाब दिया और एक पोस्ट के जरिये उसने इसकी जानकारी देते हुए अपनी शादी तोड़ दी.

रेम्या रामचंद्रन नाम की इस लड़की ने सगाई के बाद से अपने मंगेतर के घर वालों की तरफ से दहेज की बढ़ती मांगों को लेकर ये कदम उठाया. रेम्या थ्रिसूर की रहने वाली हैं.

रेम्या ने फेसबुक पर लिखा ” दोस्तों, आपमें से जो लोग कुछ दिन पहले शादी की तारीख के बारे में पूछ रहे थे, यह नोट उनके लिए है. अब तक जिस परिवार को सिर्फ ‘मेरी’ जरुरत थी, उसने सगाई के बाद अब अपने पैर पीछे खींच लिए हैं. अब उन्हें मेरे आलावा 50 सोने के सिक्के और 5 लाख रुपए कैश भी चाहिए. चूंकि मैं दहेज के खिलाफ हूं और ऐसे लोगों को कतई बर्दाश्त नहीं कर पाती जो अपनी बात पर टिके नहीं रहते. इसलिए मुझे लगता है कि ऐसे लालची परिवार ऐसे लालची लड़के को इतने पैसे देकर खरीदना मूर्खता ही होगी. इसलिए मैं इस शादी को तोड़ रही हूं.” – रेम्या

रेम्या के इस कदम को सोशल मीडिया पर खूब सराहा जा रहा है और उनकी काफी तारीफ़ भी हो रही है. उन्होंने बड़ी विनम्रता से सबकी प्रशंसा को स्वीकार किया और उसके लिए एक और पोस्ट लिखा है. रेम्या ने लिखा कि ” आप सबके सपोर्ट के लिए धन्यवाद. मुझे इससे बहुत खुशी मिली है. मैं बस अपने कुछ दोस्तों को इसके बारे में बताना चाहती थी. मुझे नहीं पता था कि यह इतनी बड़ी खबर बन जाएगी. मैं आप सबको बताना चाहूंगी कि यह मेरे उस फैसले की घोषणा है.”

रेम्या ने आगे कहा ” मेरा इरादा किसी को ठेस पहुंचाने का नहीं था. कृपया मेरे इस पोस्ट को किसी को व्यक्तिगत रूप से अपमानित करने के लिए न इस्तेमाल करें, अगर इसे इस्तमाल करना है तो समाज की इस बुराई के खिलाफ इस्तमाल कीजिये. लोग सिर्फ अपनी सुविधा और लाभ के लिए अनजान बने रहते हैं. एक बार फिर से सबका धनयवाद”

देश में जहां दहेज की वजह से हर साल ना जाने कितनी ही लड़कियों को अपनी जान गंवानी पड़ती है तो कइयों की जिंदगी भर कड़वी बातें सुननी पड़ती हैं. ऐसे में रेम्या के इस कदम से कई लड़कियों में दहेज रुपी इस राक्षस से लड़ने की जरूर हिम्मत आयी होगी.

रेम्या के इस जज्बे को हमारा सलाम !


समाचार – ABP news, ९ दिसम्बर २०१५ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share