कोलकाता यात्रा

कोलकाता यात्रा 

कोलकाता शहर में साफ सफाई दिखी । होर्डिंग, बैनर व पोस्टर बहुत कम दिखे । जो भी पोस्टर वगैरा दिखे वो दीदी के थे । दीदी के अलावां किसी और की फोटो कहीं नहीं है । उनकी पार्टी के नेता की भी फोटो नहीं दिखती । ओनली दीदी । मोदी जी की फोटो केवल कुछ पेट्रोल पंप व नेशनल जगहों पर दिखी ।

मंहगाई मुंबई से कम है । लोग सुकून पसंद हैं । मुंबई जैसी भाग दौड़ नहीं है । कम से कम, पैसे के पीछे नहीं भागते । दोपहर में दुकानें बंद हो जाती हैं । दोपहर 1 से 4 बजे तक दुकानदार आराम करते हैं । शाम 4 बजे फिर से दुकानें खुलती हैं ।

टैक्सी की समस्या है । टैक्सी वाला अपनी मर्जी से चलता है । मन है तो हाँ बोलेगा नहीं तो न बोलेगा । 10 में 1 हाँ बोलता है । मुंबई में उल्टा है । 10 में 9 हाँ बोलते हैं, 1 न बोलता है । खैर टैक्सी वाले अच्छे हैं । कोलकाता के सभी लोग अच्छे हैं ।

ठंडक जादा नहीं है ।

हर गांव के पास तालाब है । लगभग हर आदमी के पास तालाब है । जिसके पास तालाब नहीं है वो गरीब है । तालाब में बरसात का पानी इकट्ठा करते हैं । घर का काम होता है । मछली भी पाली जाती है । मच्छी भात पसंदीदा भोजन है ।

हम लोग शाकाहारी थे । शाकाहारी भोजन भी उपलब्ध था ।

कोलकाता अच्छा शहर है । एक बार अवश्य घूमें ।

 

मेरी कोलकाता यात्रा डायरी

Arun Mishra

December 6 at 8:56pm ·

ट्रेन बड़ी मजेदार जगह होती है । अलग अलग जगह के अलग अलग लोग मिलते हैं । आप दो मीठे बोल बोलिए । फिर बाकी सब अपने आप होने लगता है । रिश्ते बनने लगते हैं । ज्ञान के साथ साथ प्यार और आशीर्वाद भी मिलने लगता है । यागदार समय का निर्माण हो जाता है ।

अभी तक की यात्रा बढ़िया रही । कल दोपहर तक आसनसोल में मित्र से मुलाकात होगी । सूत्रों से पता चला है कि अभी से मित्र ने गाना चालू कर दिया है – ‘बम्बई से आया मेरा दोस्त …’

सभी को प्यार 💐💐

Arun Mishra

December 9 at 8:19am ·

7, 8 दिसंबर 2016 को अपने नैनीताल वाले स्कूल बिरला विद्या मंदिर के मित्र विनोद भाई डोकानिया की बेटी के विवाह में था ।

अपने BVM परिवार से अलोक चौधरी भाई, अनिल दुआ भाई, अनूप भाई, अरुण भाई व भाभी, जयशंकर भाई, कैलाश भाई व भाभी, कौशलेंद्र भाई, राजेंद्र सोंथालिया भाई, मनोज सिंह भाई, सुदीप भाई , दीपक शर्मा भाई , दीपक सुरेखा भाई व अन्य कई भाई इस समारोह में शामिल हुए ।

हम सभी एक साथ विनोद भाई से मिले, उनके परिवार से मिले, वर वधू को आशीर्वाद दिया ।

हम सभी भाइयों ने साथ में चाय पानी किया, साथ में भोजन किया, साथ में भजन किया, साथ में बातें की ।

बहुत अच्छा लगा । सुखद लगा । मजा आया ।

सारे कार्यक्रम बहुत शानदार थे । इंतजाम बहुत शानदार थे । साज सज्जा सजावट उत्तम था । भोजन अति उत्तम था । साफ़ सफाई अति अति उत्तम थी । हजार से बहुत ज्यादा मेहमानों को इतने व्यवस्थित तरीके से मिलना जुलना खिलाना पिलाना तारीफे काबिल था । अति उत्तम । भाई विनोद डोकानिया व उनका समधी परिवार इस सारी व्यवस्था के लिए प्रशंसा योग्य हैं ।

हम सभी मित्रों की तरफ से एक बार पुनः वर वधू को बहुत सारा आशीर्वाद । बहुत सारा प्यार । ईश्वर उन्हें खुश रखे । सुखी रखे । प्रसन्न रखें ।

विनोद भाई को उनके प्यार के लिए धन्यवाद । उन्हें हम सब का प्यार ।

🌹🌹🌹🌹🌹

Arun Mishra

December 10 at 10:58pm ·

बात इसी 9 दिसंबर की है । मैं रानीगंज से कोलकाता पहुंचा ही था । अपने दोस्त विजय गुप्ता निगानिया के ऑफिस में था । करीब 4 बजे थे । अचानक एक सज्जन पुरुष ऑफिस में आए । अपना परिचय देने वाले थे कि मेरे मुंह से निकला – अनिल जी । वो खुश हो गए, हम सब खुश हो गए । अपने फेसबुक मित्र Anil Shukla जी हमें मिलने आए थे । एक दो घंटे साथ रहे । बहुत सारी बातें हुई । व्यक्ति का व्यक्तित्व उसकी सरलता में छिपा होता है । अनिल जी बहुत सरल व सज्जन शिक्षक मित्र हैं । उनसे मिल कर हमें बहुत अच्छा लगा ।

प्यार !

Arun Mishra

December 10 at 11:16pm ·

9 दिसंबर 2016 की रात के 8 बजे थे । मैं कोलकाता में था । भाई विजय गुप्ता निगानिया प्रेम से कालीधम मंदिर ले गए । पत्नी साथ में थी । विजय भाई ने हम दोनों को माँ काली देवी के दर्शन करवाए ।

फिर वो हमें अपने घर ले गए । हम उनकी पत्नी, बच्चों व बड़ो से मिले । भाभी ने हम सभी को बहुत स्वादिष्ट भोजन कराया । मैंने बेटे से थोड़ी बात की । उनके पिताजी चाचाजी व बुआ जी से आशीर्वाद लिया ।

दूसरे दिन, 10 दिसंबर को भाई विजय ने गंगासागर स्नान की व्यवस्था करवाई थी । सुबह टैक्सी आ गई । मैं सपत्नी गंगा सागर के निकल पड़ा । टैक्सी – बोट – टैक्सी से यात्रा करते हुए हम गंगा सागर पहुंचे । स्नान किया । कपिल मुनि जी के मंदिर में कपिल मुनि जी व प्रभु के दर्शन किए । विजय भाई ने हरियाणा भवन में भोजन की व्यवस्था करवाई थी । भोजन पश्चात वापस निवास स्थान रात 9 बजे आ गए । दिन भर की यात्रा सफल रही ।

मित्र हो तो भाई विजय गुप्ता निगानिया जैसा । भाई व उनके परिवार ने मेरा व मेरे परिवार का दिल जीत लिया ।

भाई विजय व उनके परिवार को बहुत बहुत प्यार ।

अरुण व रेणु 

 

 

 

 

 

 

 

 

Arun Mishra

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share