संग तुम्हारा लगा प्यारा

अनुज शाही, मेरा BITSian साथी है, एक बैच, एक हॉस्टल, एक बोली, एक साथ, लगातार चार साल । आज वो नॉएडा से मुंबई आया तो साल भर बाद मुलाकात हुई ।

बहुत बातें हुई । दार्शनिक इंजीनियर की बातें बहुत अलग होती हैं । दो बातें आप सब से share करना चाहूंगा ।

1. खर्चा कमाई से जादा होने पर दुःख मिलता है

2. आदमी को अपनी सफलता स्वयं लिखनी पड़ती है

थोड़ी देर ही सही
संग तुम्हारा
लगा बहुत प्यारा
😊😊💐💐

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share