हिंदी में पढ़ें Archive

आई मिस यू, दादाजी

जिन लोगों ने कभी ब्याज(सूद) पर कर्ज लिया या दिया होगा उन्हें यह भली प्रकार पता होगा कि लेनदार को मूलधन से कहीं ज्यादा ज्यादा फ़िक्र ब्याज की होती है। आप उसका मूलधन भले

हम तैयार हैं, हम काम करेंगे !

अवसर सामने खड़ा होता है. हम देखते ही नहीं हैं. कई बार अवसर दरवाजा भी खटखटाता है. पर हम सुनते ही नहीं हैं.  उसकी क्या गलती वो वापस चला जाता है. लंबे समय के

उसे छू लो

जो खुशी छूने में होती है, वो कहीं और नहीं. पत्तो को छुओ. फूल को छुओ. बहुत अच्छा लगता है. बच्चे को छू कर देखो. बहुत प्यार मिलता है. बचपन में रहस्य पता न

अप्रैल फूल

अप्रैल फ़ूल दिवस (April Fools Day) अर्थात् ‘मूर्ख दिवस’ को 1 अप्रैल के दिन विश्वभर में मौज-मस्ती और हंसी-मजाक के साथ एक-दूसरे को मूर्ख बनाते हुए मनाया जाता है। इस दिन लोग अपने मित्रों,

खुश रहने के तरीके

आप खुश रहना चाहते हैं। मैं भी खुश रहना चाहता हूँ। हम सब खुश रहना चाहते हैं पर ये नहीं समझ पाते कि आखिर वो खुशियाँ कहाँ हैं जिन्हें हम ढूँढ रहे हैं। कैसे

प्रार्थना असर करती है

बात आत्मसंतोष से चालू होती है. प्रार्थना करने से आत्मसंतोष मिलता है, आत्म संतुष्टि मिलती है. प्रार्थना में अपार चमत्कार-शक्ति है. प्रार्थना आत्मा की शक्तियों को जगाने का एक माध्यम है. मंत्र योग, उपयोग, लययोग इत्यादि की

खुशियाँ बाँटें

शरद ऋतु की एक शाम। किशोरवय मंजरी अपने द्वार पर टहल रही थी। शाम की सुहानी हवा का आनंद लेते हुये उसे एक ख्याल आया। क्यों न वो अपने द्वार पर फूलों के पौधे

पलायन

रजनी का फोन आया । अरुण, तुम भी यहीं आ जाओ । वही रजनी जो मेरे साथ 1988 में काम करती थी । जिसकी बातचीत अतुल से जादा होती थी । वही लंबे सीधे

मेरे पास डिग्री नहीं है. I am not Graduate. मैं क्या करूं ?

Graduate हों. ग्रेजुएशन करें. अगर आपके पास बैचलर डिग्री नहीं है, आप graduate नहीं है, तो ग्रेजुएशन करें. यह जरुरी है. यही एक रास्ता हैं. ग्रेजुएशन क्यों करें ? आज नौकरी के लिए भारत व

बादलों में घर

चार साल पहले बेटे का नाशिक में इंजीनियरिंग में admission कराने जा रहा था । इगतपुरी की पहाड़ी पर था । जून 2011 का आखिरी सप्ताह था । बारिश हो रही थी । मैं
Share