बात आत्मसंतोष से चालू होती है. प्रार्थना करने से आत्मसंतोष मिलता है, आत्म संतुष्टि मिलती है. प्रार्थना में अपार चमत्कार-शक्ति है. प्रार्थना आत्मा की शक्तियों को जगाने का एक माध्यम है. मंत्र योग, उपयोग, लययोग इत्यादि की