दिल के पास में रहने वाला मित्र Parwaiz बहुत दिनों से नहीं मिला था । कई बार सोचा जाऊं और मिलूं । पास की बिल्डिंग में ही तो है । पर आलस करता रहा