जब छोटा था तब गावं के लोहार के काम को बड़े ध्यान से देखता था । सोचता था कि ये ऐसा कमाल कैसे कर लेता है । बढ़ई मेरे को गुल्ली डंडा बना कर