यूँ तो माफीनामा हाज़िर है ले ही लीजिये, सजा कोई मुक़र्रर है तो दे ही दीजिये … खता मेरी अदा कुछ आप की भी कम न थी, ये गुस्सा छोड़ कर थोड़ा तो पानी