रजनी का फोन आया । अरुण, तुम भी यहीं आ जाओ । वही रजनी जो मेरे साथ 1988 में काम करती थी । जिसकी बातचीत अतुल से जादा होती थी । वही लंबे सीधे