अगर मैं कवी होता

flowersheart

अगर मैं कवी होता
तो कविता लिखता
नदी पे लिखता
हवा पे लिखता
बच्चों पे लिखता
युवा पे लिखता
धरती का, दुलार लिखता
आसमां का, प्यार लिखता
लिखता उसकी, आंखे गीली
लिखता खेत की, सरसों पीली
लिखता बूढ़े होते, जवान बाप
लिखता भटके, हम और आप
लिखता कैसे हम, जाएं फिर मिल
लिखता मुझमे धड़के, माँ का दिल

————–