ज्ञान, हुनर, जिगर, संघर्ष सिखाइए

अगर केवल पढ़ाई से सफलता मिलती, तो आज का युवा असफल नही होता.

मैं फिर से लिख रहा हूँ –

अगर केवल पढ़ाई से सफलता मिलती, तो आज का युवा असफल नही होता. क्योंकि आज 90% से अधिक युवा साक्षर है.

पढ़ाई के साथ साथ हुनर व जिगर भी चाहिए.

बोलने का हुनर चाहिए, किसी भी स्टेज पर बोलने का जिगर चाहिए. सेमिनार, ग्रुप डिस्कसन, इंटरव्यू, स्पीच, डिबेट का हुनर व जिगर चाहिए.

इसी तरह दूसरे क्षेत्रों में हुनर व जिगर चाहिए.

हुनर प्रैक्टिस से आएगा. जिगर एक्सपोज़र से आएगा.

ज्ञान, हुनर व जिगर के साथ साथ संघर्ष आना चाहिए. तूफानों से टक्कर लेना आना चाहिए. मजबूती से डटे रहना आना चाहिए. चट्टान की तरह.

अपने बच्चों को ज्ञान, हुनर, जिगर, संघर्ष सिखाइए.

उन्हें चट्टान बनाइए.
वो माउंट एवरेस्ट बन कर दिखाएंगे.

??