यादें Archive

छोटे शहर की बड़ी लड़की

ये जो छोटे शहर की 97% PCM वाली बड़ी स्कॉलर लड़की आप मेरे साथ देख रहे हैं, ये भविष्य की कंप्यूटर साइंटिस्ट है. मैं इसमें सफलताएं देख रहा हूँ. वर्तमान व भविष्य की इस

Love you dear

इसी को प्यार कहते हैं । कानपुर से एक लड़के का फोन आया । अपनी माँ के स्वास्थ के बारे कुछ सलाह ली । बात करते करते भावुक हो गया और बोला – ‘अंकल

आज़ादी की लड़ाई में खुल कर कूद गए

वयोवृद्ध सम्मानीय शुक्ला जी बता रहे थे – अंग्रेजों ने चंद्रशेखर आज़ाद जी पर ईनाम घोषित कर दिया था । हमारे गाँव से वे जा रहे थे । गाँव की काकी पहचान गई ।

और वो चला गया

जिस की कहानी लिख रहे हों वो अगर सामने बैठा हो, और कहानी स्वयं सुना रहा हो, और उसकी आवाज कांप रही हो, और आंखें नम हों, तो यकीन मानिए, कलम कांपती है, बार

हम उसी लड़की से अपने नाती का विवाह करेंगे

बहुतै सुंदर कहानी कहानी प्रतापगढ़ के शुक्ला जी, उनकी धर्मपत्नी व उनकी नतोहू की है । कहानी एक बरस पहले की है, कहानी सत्य है और अच्छे समाज के लिए अनुकरणीय उदाहरण है ।

यह कहानी अनोखी है

यह कहानी अनोखी है, इसमें मुंबई की रफ्तार है, लखनऊ की नजाकत है, और अद्भुत प्यार है । 10 मार्च को सास, होने वाली बहु से, पहली बार मिली, शॉपिंग सेंटर में, अचानक, बिना

मैं मानस का फूफा जी हूँ

मैं मानस का फूफा जी हूँ । फूफा जी कम व दोस्त जादा हूँ । पहले वो मेरा प्रसंशक था, आजकल मैं उसका प्रसंशक हूँ । प्रयाग जाऊं और अपने बेटे मानस से मुलाकात

आचार्य धर्मेश जी

लखनऊ, 17 फरवरी की सुबह 9 बजे, लखनऊ के ऐशबाग वाले आचार्य धर्मेश जी से बात हुई, यह तय हुआ कि 11 बजे मिलेंगे, पुलवामा की दुःखद घटना के शोक में ऑटो वगैरा बंद

जरूर याद करेंगे सिंह साहेब

बात जब 2019 के प्रयाग कुंभ की होगी तब हम सब आपको जरूर याद करेंगे सिंह साहेब । यूँ समझ लीजिए कि लाडो की मम्मी अंजली हमारी बहू है । जब हम प्रयागराज कुंभ

कहानी बहुत मीठी है

एक लड़का है । बहुत ही सरल स्वभाव वाला । एक दिन मेरे पास आया । बोला – सर, मेरे को डिप्लोमा करा दो । – अभी क्या किया है  – ड्राफ्टिंग किया है